NEWSLAMP
Hindi news, हिन्‍दी समाचार, Breaking news, Prayagraj news, प्रयागराज समाचार, Allahabad news, न्यूज़लैम्प हिन्दी दैनिक, Newslamp Hindi Daily।

Meteor: अंटार्कटिका में मिला चार लाख साल पुराना उल्‍कापिंड, धरती को ‘महासंकट’ से दिलाएगा मुक्ति!

हाइलाइट्स:

  • अंटार्कटिका की बर्फ की चादर के नीचे 4 लाख 30 हजार साल पुराने उल्‍कापिंड के टुकड़े मिले
  • वैज्ञानिकों को उम्‍मीद है कि इस उल्‍कापिंड की मदद से ऐस्‍टरॉइड के खतरे को समझा जा सकेगा
  • उल्‍कापिंड की मदद से ऐस्‍टरॉइड के टकराने पर होने व‍िनाशकारी परिणामों का भी होगा आकलन

लंदन
ब्रिटेन के केंट स्थित अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के एक दल को अंटार्कटिका की बर्फ की चादर के नीचे 4 लाख 30 हजार साल पुराने उल्‍कापिंड के टुकड़े मिले हैं। इस खोज से वैज्ञानिकों में खुशी की लहर दौड़ गई। उन्‍हें उम्‍मीद है कि इस प्राचीन उल्‍कापिंड की मदद से इस बात का आकलन किया जा सकेगा कि मध्‍यम आकार के ऐस्‍टरॉइड से धरती को किस तरह का खतरा हो सकता है।

शोधकर्ताओं के दल ने कहा कि उल्‍कापिंड की मदद से ऐस्‍टरॉइड के टकराने पर होने व‍िनाशकारी परिणामों का भी आकलन किया जा सकेगा। वैज्ञानिकों को यह उल्‍कापिंड के टुकड़े पूर्वी अंटार्कटिका के वालनुम्‍फजेलेट चोटी पर मिले हैं। इस खोज से संकेत मिलता है कि कथित रूप से निचली कक्षा में चक्‍कर लगाने वाला उल्‍कापिंड धरती पर बहुत तेजी से गिरा था। उन्‍होंने बताया कि यह उल्‍कापिंड कम से कम 100 मीटर का रहा होगा।

अंटारर्कटिका में म‍िले उल्‍कापिंड के टुकडे़

उल्‍कापिंड का प्रभाव करीब 2000 किमी तक
यूनिवर्सिटी ऑफ केंट के वैज्ञानिक डॉक्‍टर मैटथिआस वॉन ने कहा कि इस उल्‍कापिंड का प्रभाव करीब 2000 किमी या लगभग एक उपमहाद्वीप तक रहा होगा। साइंस अडवांस जर्नल में प्रकाशित जर्नल में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि इस तरह की घटनाओं के साक्ष्‍य जुटाना बेहद अहम है क्‍योंकि इसके जरिए उल्‍कापिंडों के पृथ्‍वी के टकराने के इतिहास और खतरनाक ऐस्‍टरॉइड के खतरनाक प्रभावों को समझा जा सकेगा।


डॉक्‍टर वॉन ने कहा कि ऐस्‍टरॉइड के धरती के घनी आबादी वाले इलाके में टकराने की आशंका बहुत ही कम है लेकिन इसका प्रभाव काफी दूर तक हो सकता है। पृथ्‍वी की सतह के केवल 1 प्रतिशत हिस्‍से में घनी आबादी रहती है। वॉन ने कहा कि ऐस्‍टरॉइड के टकराने का असर हजारों क‍िलोमीटर दूर तक महसूस किया जा सकेगा। उन्‍होंने कहा कि इस उल्‍कापिंड की मदद से धरती पर होने वाले असर को समझा जा सकेगा।

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।

अपनी राय देने के लिए धन्यवाद।

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

आपके खबरें पढ़ने के अनुभव बेहतर बनाने के लिए यह वेबसाइट कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करती है। जिससे आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत हैं। स्वीकार आगे पढ़ें