UA-110940875-1
NEWSLAMP
Hindi news, हिन्‍दी समाचार, Breaking news, Latest news-NEWSLAMP

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की विपक्ष की वीपैड पर पुनर्विचार याचिका

लोकसभा चुनाव 2019 : VVPAT पर विपक्ष को बड़ा झटका, कहा कि एक ही मामले को बार-बार नहीं सुना जा सकता

ई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को वीपैड मुद्दे पर विपक्षी दलों को बड़ा झटका दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के बाद 21 विपक्षी दलों की याचिका को खारिज कर दिया है। शीर्ष अदालत ने कहा है कि एक ही मामले को बार-बार नहीं सुना जा सकता है। बता दें कि 21 विपक्षी दलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर ईवीएम वीपैड मुद्दे पर पुनर्विचार की मांग की थी। मंगलवार को इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने की। सुप्रीम कोर्ट में याचिका खारिज होने के बाद कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि कोर्ट के आदेश का सम्मान करते हैं।

  • विपक्ष ने की 50% वीपैड मिलान की मांग

बता दें कि अभी तक चुनाव आयोग 4,125 ईवीएम और वीवीपैट पर्ची का मिलान कराता आया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद चुनाव आयोग को 20,625 ईवीएम और वीवीपैट का मिलान कराना होगा। वर्तमान में वीवीपैट पेपर स्लिप मिलान के लिए प्रति विधानसभा क्षेत्र में केवल एक ईवीएम लिया जाता है। एक ईवीएम प्रति विधानसभा क्षेत्र के 4,125 ईवीएम के वीवीपीएटी पेपर्स से मिलान कराया जाता है। लेकिन 21 राजनीतिक दलों के नेताओं ने लगभग 6.75 लाख ईवीएम की वीवीपीएटी पेपर स्लिप के मिलान की मांग की है।

  • ईवीएम पर विपक्ष का आरोप
प्रतिकात्‍मक

आंध्र के सीएम और टीडीपी अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि दुनिया के 191 देशों में से मात्र 18 देशों ने ईवीएम को अपनाया है, जिनमें से 3 देशों के 10 सबसे अधिक आबादी वाले देशों में शामिल हैं। नायडू ने चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की जा सकती है और उनमें गड़बड़ी भी पैदा होती है। इसके अलावा इनकी प्रोग्रामिंग भी की जा सकती है। उनका कहना है कि नए वीवीपैट में वोटर स्लिप मात्र 3 सेकेंड में कैसे दिखाई देता है जबकि इसे 7 सेकेंड में दिखाई देना चाहिए। उनका आरोप है कि भाजपा ईवीएम से छेड़छाड़ कर वोट हासिल कर सकती है।

80%
Awesome
  • Design
Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।

अपनी राय देने के लिए धन्यवाद।

यह वेबसाइट आपके अनुभव को बेहतर बनाने के लिए कुकीज़ का उपयोग करती है। हम मान लेंगे कि आप इसके साथ ठीक हैं, लेकिन यदि आप चाहें तो आप ऑप्ट-आउट कर सकते हैं। स्वीकारआगे पढ़ें